AMIE Full Form in Hindi – AMIE क्या होता है पूरी जानकारी।

AMIE Full Form in Hindi – AMIE क्या होता है पूरी जानकारी। – आज के समय में भी कई छात्र ऐसा है जो की Engineering करना तो चाहते है पर College न मिलने के कारण कर नही पाते है, जिसके कारण वो बहुत ही disappointed हो जाते है, दोस्तों छात्रों की इसी समस्या को दूर करने के लिए एक ऐसा Course बनाया गया है जो एक तरह से B. Tech के समान ही माना जाता है. आपको सुन कर भी ख़ुशी हुई होगी जी हां आज ऐसे कई Courses है जिनकी विश्वनियता B. Tech के सामान है, आज हम इस पोस्ट में ऐसे ही Course के बारे में बात करें जा रहे है, जिससे करने के बाद छात्र B. Tech की तरह ही Job opportunities और Higher Education पा सकते है तो आइये जानते है, AMIE क्या होता है।

AMIE Full Form in Hindi – AMIE क्या होता है पूरी जानकारी।
AMIE Full Form in Hindi – AMIE क्या होता है पूरी जानकारी।

AMIE Full Form In Hindi (AMIE फुल फॉर्म क्या होता है? ) 

AMIE की फुल फॉर्म “Associate Member of the Institution of Engineers” होती है, यह इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड (IEIL) द्वारा दिया गया एक professional certification है, यह उन छात्रों के लिए एक महत्वपूर्ण डिग्री है, जो भारत में तकनीकी विश्वविद्यालय या इंजीनियरिंग कॉलेज से नियमित इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करने में असमर्थ हैं. AMIE को हिंदी में “इंजीनियरों के संस्थान के सहयोगी सदस्य” कहते है, आइये अब इसके बारे में अन्य सामान्य जानकारी प्राप्त करते हैं।

AMIE के इस certification को इंजीनियरिंग की डिग्री के बराबर ही माना जाता है, जिसमें इलेक्ट्रॉनिक्स, मैकेनिकल और कंप्यूटर साइंस जैसी इंजीनियरिंग की प्रमुख धाराएं शामिल हैं. एक बार जब कोई छात्र इस प्रमाणीकरण को पूरा कर लेता है, तो वह किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से मास्टर्स डिग्री का विकल्प चुन सकता है. वह अपने विशेषज्ञता के क्षेत्र में विभिन्न सरकारी या निजी क्षेत्र की कंपनियों में भी काम कर सकता है।

AMIE की Eligibility-

जो लोग AMIE करना चाहते हैं उनके पास निम्न योग्यताये होना आवश्यक है-

अंग्रेजी, भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित के साथ 10 + 2 (Intermediate) उच्चतर माध्यमिक की परीक्षा में पास होना आवश्यक है या इंजीनियरिंग की किसी भी शाखा में एक मान्यता प्राप्त 3-वर्षीय Polytechnic Diploma या इसके बराबर कोई भी शैक्षणिक योग्यता, AMIE के लिए आवेदन करने के लिए भी योग्य है।

जो लोग अपने Diploma course के बाद AMIE करते हैं उन्हें आमतौर पर Diploma Stream Students (Senior Technician members) के रूप में जाना जाता है।

AMIE का Exams-

AMIE की परीक्षा सालाना दो बार गर्मी और सर्दियों या जून और दिसंबर में आयोजित की जाती है. Technical Journal मे परीक्षा की तारीख और विवरण जारी किए जाते है. IEIL ने परीक्षा को दो वर्गों में विभाजित कर दिया है Section A और Section B.

सभी उम्मीदवारों के लिए Section A अनिवार्य होता है. Section B मे उम्मीदवार को इंजीनियरिंग कार्यक्रम की एक Specific Branch चुननी होगी. Section A पास करने के बाद उम्मीदवार Section B के लिए उपस्थित हो सकता है.

यदि वह Section B के कम से कम 5 Papers Clears करता है तो वह Laboratory Experiments के लिए Eligible बन जाता है. Project के काम मे 10 पेपर शामिल होते है छह अनिवार्य और तीन वैकल्पिक.

AMIE Usage-

इस सर्टिफिकेट को इंजीनियरिंग, मैकेनिकल और कंप्यूटर साइंस जैसे इंजीनियरिंग की प्रमुख धाराओं सहित इंजीनियरिंग की डिग्री के बराबर माना जाता है. यहां तक कि एक प्रमाणित छात्र भी इन परीक्षाओ के लिए Capable होता है.

Civil Services (CS)
Indian Engineering Services (IES)
Graduate Record Examinations (GRE)
Graduate Aptitude Test in Engineering (GATE)
Graduate Management Admission Test (GMAT)
Common Admission Test

ए. एम. आइ. ई. के बाद एम टेक का विकल्प संपादित करें।

आजकल विशेषज्ञता का जमाना है। हॉलाकि बी टेक लेवल पर कई अभियांत्रिकी आधारित बेसिक कोर्स कराये जाते हैं परंतु किसी एक अभियांत्रिकी शाखा जैसे सिविल अभियांत्रिकी, के किसी एक उपशाखा जैसे भू-अभियांत्रिकी के विशेष ज्ञान के लिये एम टेक करना आवश्यक हो जाता है। ऐसे कई इंजिनियरिंग कॉलेज हैं जहाँ से एम टेक किया जा सकता है। एम टेक करने की पहली शर्त यह है कि आपने बी टेक अथवा ए. एम. आइ. ई. किया हो। परंतु एम टेक करने के लिये सर्वप्रथम गेट की परीक्षा अच्छे स्कोर से पास करना आवश्यक है। अगर आपका स्कोर 99 है तो इसका यह अर्थ है कि आप टॉप 1 प्रतिशत अभियार्थियो में हैं। अगर आपका गेट स्कोर 70 से कम है तो आप फेल माने जायेंगे। 85 से ऊपर का गेट स्कोर अच्छा माना जाता है। अगर आपका गेट स्कोर 95 से अधिक है तो आपको आई आई टी में प्रवेश के लिये प्रयास करना चाहिये। 85 से 95 के मध्य आपको रीजनल इंजिनियरिंग कॉलेजो में प्रयास करना चाहिये।

यह परीक्षा फरवरी माह के दूसरे रविवार को होती है। यह परीक्षा तीन घंटे की होती है तथा कुल 150 नंबर का पेपर होता है (ऑब्जेक्टिव – 75, थ्योरी – 75)। इस परीक्षा हेतु विज्ञापन अक्टूबर प्रथम माह में राष्ट्रीय स्तर के समाचार पत्रो में निकलता है। परीक्षा परिणाम मार्च के आखिरी दिन घोषित होता है। अगर आप अच्छे स्कोर से गेट की परीक्षा पास करते हैं तो न सिर्फ आपको एक अच्छे इंजिनियरिंग कॉलेज/आई आई टी में प्रवेश मिलेगा अपितु एक बहुत अच्छी स्कॉलरशिप (पूरे 18 माह तक) भी मिलेगी। गेट पास अभियार्थियों को सी एस आई आर की लैब्स में जूनियर रिसर्च फैलोशिप भी मिल सकती है। एडमिशन के लिये गेट स्कोर दो साल तक प्रयोग किया जा सकता है।

एडमिशन के लिये आपको विभिन्न इंजिनियरिंग कॉलेजो/आई आई टी के प्रवेश विज्ञापनो पर निगाह रखनी होगी। ये विज्ञापन अप्रैल माह से आरंभ होकर जुलाई माह तक चलते रहते हैं।

इन कॉलेजो में प्रवेश-

गेट स्कोर, साक्षात्कार, लिखित परीक्षा तथा अनुभव के आधार पर मिलता है। सामान्यत: गेट के स्कोर को सत्तर प्रतिशत तथा लिखित परीक्षा/साक्षात्कार को तीस प्रतिशत महत्व दिया जाता है। कुछ स्थानो पर (जैसे दिल्ली इंजिनियरिंग कॉलेज) अनुभव को भी महत्व देते हैं।

प्लेसमेंट व सुविधाएँ-

ए.एम.आई.ई. के बाद प्लेसमेंट की सुविधा भी उपलब्ध है। यह प्लेसमेंट द इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनीयर्स के वार्षिक समारोह में होता है।

अगर आप सरकारी नौकरी में हैं तो आपको प्रोमोशन भी अवश्य मिलेगा। ए.एम.आई.ई.करने के बाद आप द् इंस्टीटयूशन ऑफ इंजिनियर्स (इंडिया) के विभिन्न गेस्ट हाउसों का लुत्फ भी उठा सकते हैं। सदस्यों के लिये शुल्क नाममात्र को ही है। शिमला, देहरादून, दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, चंदीगढ, बेंगलूर, कलकत्ता जैसी लगभग ४० प्रसिद्ध शहरो में इसके गेस्ट हाउस हैं। सभी गेस्ट हाउस विभिन्न सुविधाओं से सुसज्जित हैं।

कुल मिलाकर डिप्लोमा धारक के लिये जो बी टेक करना चाहे, सस्ता व सुलभ विकल्प ए.एम.आई.ई. ही है जो उसके अच्छे भविष्य की चाबी भी है।

विकल्प-

आप किसी भी ब्रांच (सिविल, मैकेनिकल, ईलेक्ट्रीकल, इलेक्ट्रानिक्स, कंप्यूटर, कैमिकल, माइनिंग, टेक्सटाइल, प्रोडक्शन व मैटलर्जी) से ए.एम.आई.ई. कर सकते हैं। परीक्षा की तैयारी के लिये अच्छी पाठन सामग्री ए.एम.आई.ई.स्टडी सर्किल के पास उपलब्ध है। ए.एम.आई.ई.के बाद आप कर सकते हैं – एम टेक, बी. टेक के समकक्ष नौकरी, आइ. ई. एस., अपनी कंसल्टेंसी इत्यादि। अगर आप गेट की परीक्षा पास करके एम टेक करेंगे तो आपको एक अच्छी स्कालरशिप भी मिलेगी। अधिकांश एम टेक मात्र दो साल में हो जाती हैं। ए.एम.आई.ई. स्टडी सर्किल की वेब साइट द्वारा पूरे भारत में कराये गये सर्वेक्षण से पता चलता है कि ७० प्रतिशत छात्र ए.एम.आई.ई.के बाद एम टेक करना चाहते हैं।

ये भी पढ़े – 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here