BAMS क्या है? BAMS की पूरी जानकारी।

BAMS का मतलब होता है Bachelor of Ayurvedic Medicine and Surgery. यह BAMS Full Form है. यह एक Professional Ayurvedic / Ayurveda Degree है जो कि भारत, नेपाल, बांग्लादेश और कई सारे Asian देशों में मान्य है। यह Professional Degree लगभग साढ़े पाँच साल की होती है जिसमें एक साल की internship भी शामिल होती है। इस Degree को पास कर चुका व्यक्ति भारत या श्रीलंका में कहीं भी आयुर्वेदिक इलाज के लिए government द्वारा approve किया गया hospital खोल सकता है।

BAMS क्या है? BAMS की पूरी जानकारी।
BAMS

भारत में इस आयुर्वेदिक उपचार को काफी महत्व दिया जा रहा है। आयुर्वेदिक दवाई निर्माता कंपनियों की संख्या में इजाफा और विदेशों में भी इसका प्रचलन इस क्षेत्र में रोजगार के नये आयाम खोल रहा है। आयुर्वेद को लेकर एक प्रमुख बात यह है कि विदेश से आने वाले पर्यटकों के लिए अधिक से अधिक पंचकर्म केंद्र बनाए जा रहे हैं। यही नहीं, देश में प्रत्येक नागरिक अस्पताल में कम से कम एक आयुर्वेदिक चिकित्सक का होना अनिवार्य कर दिया गया है। ऐसे में आयुर्वेद में स्नातक कर रहे छात्रों का भविष्य उज्ज्वल है। आईएएसआई यूनिवर्सिटी के उपकुलपति मिलाप दुगर कहते हैं आयुर्वेद विज्ञान एक अद्वितीय चिकित्सा पद्धति है जिससे न केवल रोग ठीक होता है बल्कि व्यक्ति का उपचार भी होता है। यह उपचार पंचकर्म द्वारा किया जाता है। इस उपचार पद्धति में बढ़ती रुचि ने आयुर्वेदिक डॉक्टरों की मांग बढ़ा दी है।

भारत में आयुर्वेदिक शिक्षा सेंट्रल काउंसिल ऑफ इंडियन मेडिसिन (सीसीआईएम) द्वारा संचालित की जाती है। आयुर्वेद में साढ़े पांच साल का पूर्व स्नातक कोर्स करने के बाद बैचलर ऑफ मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएएमएस) की डिग्री दी जाती है। भारत के आयुर्वेदिक कॉलेज स्नातक स्तर पर आयुर्वेदाचार्य या बीएएमएस की डिग्री प्रदान करते हैं।

इसके लिए न्यूनतम योग्यता उच्च माध्यमिक/पीयूसी (संस्कृत के साथ अधिमान्य) या समकक्ष या माध्यमिक (आयुर्वेदिक ग्रुप- भौतिकी, रसायन, जीवविज्ञान और संस्कृत), किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से जो काउंसिल की शर्तें पूरी करता हो।

बीएएमएस कोर्स के लिए न्यूनतम आयु 17 वर्ष है।

संस्थान-

भारत में आज विभिन्न राज्यों में कई ऐसे संस्थान हैं जो आयुर्वेद से जुड़े कोर्स कराते हैं-

आयुर्वेदिक एंड यूनानी तिबिया कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली
राजकीय ऋषिकुल आयुर्वेद महाविद्यालय, हरिद्वार
राजकीय गुरुकुल कांगड़ी आयुर्वेदिक महाविद्यालय, हरिद्वार
अलीगढ़ आयुर्वेदिक व यूनानी चिकित्सा महाविद्यालय,
आयुर्वेद महाविद्यालय, वाराणसी
श्री लाल बहादुरशास्त्री मेमोरियल राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय, इलाहाबाद
राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय, तिरुअनंतपुरम
राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय, कन्नूर

प्रवेश परीक्षा-

बीएएमएस में प्रवेश तभी मिल सकता है जब छात्र इसकी प्रमुख प्रवेश परीक्षाओं में सफलता हासिल कर ले। इसमें ऑल इंडिया एंट्रेंस एग्जाम के अलावा राज्य स्तर पर भी कई प्रवेश परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं। इस प्रवेश परीक्षा का पाठ्यक्रम बारहवीं पर आधारित होता है। एमबीबीएस की भांति इसमें भी छात्रों के बीच कड़ी प्रतिस्पर्धा रहती है। कुछ प्रमुख परीक्षाएं इस प्रकार हैं-

नेशनल इंस्टीटय़ूट ऑफ आयुर्वेद एंट्रेंस एग्जाम
उत्तराखंड पीजी मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम
केरल स्टेट एंट्रेंस एग्जाम
कॉमन एंट्रेंस टैस्ट (सीईटी), कर्नाटक
आयुष एंट्रेंस एग्जाम

जानिए BAMS डिग्री Course के subjects क्या हैं?

सन 2012 में भारत सरकार के निर्देशानुसार BAMS को साढ़े पांच साल के Course में बदल दिया गया था। इसमें चार Professional Years होती हैं, जिसमें पहली तीन को बारह-बारह महीने के अंतराल में किया जाता है जबकि Final Professional Year 18 महीने का होती है। BAMS की इन Years का Syllabus निर्धारित होता है और हर वर्ष के लिए अलग-अलग Subjects भी निर्धारित होते हैं।

पहले साल के विषय क्या है?

1) पदार्थ विज्ञान एवं आयुर्वेद का ज्ञान

2) रचना शरीर

3) क्रिया शरीर

4) संस्कृत

5) मौलिक सिद्धांत एवं अष्टांग हृदयं

दुसरे साल के विषय क्या है?

1) द्रव्यगुण विजनन

2) राष्ट्र एवं भैषज्य कल्पना

3) रोग विजनन एवं विकृर्ति विजनन

4) चरक संहिता

तीसरे साल के विषय क्या है?

1) अगद तंत्र, व्यवहार आयुर्वेद एवं विधि वैद्यक

2) स्वस्थवृत्ता एवं योग

3) चरक संहिता (उत्तरार्ध)

4) कौमारभृत्य

5) प्रसुति तंत्र एवं स्त्री रोग

अंतिम वर्ष के विषय क्या है?

1) कायाचिकित्सा

2) पंचकर्म

3) शल्य तंत्र

4) शालक्य तंत्र

5) अनुसंधान क्रियाविधि एवं चिकित्सा सांख्यिकी

6) शल्य तंत्र

7) शालक्य तंत्र

8) अनुसंधान क्रियाविधि एवं चिकित्सा सांख्यिकी

BAMS में admission प्राप्त करने के लिए कुछ qualifications होती है जो कि candidate के पास होना जरूरी होता है।

Candidate जो कि BAMS की 1st professional Year में admission लेने के इच्छुक है उसने H.S.E.B. (Science Stream) को ‘B’, ‘AB’ group या इसी तरह के किसी examination के साथ qualify किया हो और NEET को भी मौजूदा वर्ष ही Clear किया हो या state level entrance exam clear किया हो तभी वह BAMS में admission ले सकता है। Candidate ने 12वीं कक्षा में physics, Chemistry & Biology subjects से पास किया होना अनिवार्य है।

BAMS Degree के बाद क्या करे?

पिछले समय में BAMS में उत्तीर्ण होने के बाद, नए Graduate हुए डॉक्टरों के लिए केवल एक ही विकल्प उपलब्ध था, जो कि था स्वयं का अभ्यास शुरू करना था। हालांकि, आज BAMS से Graduate हुए Students के लिए कई सारे अलग-अलफ अवसर उपलब्ध हैं। BAMS की degree को प्राप्त करने के बाद आज कई सारी दिशाओं में Career बनाने का अवसर मौजूद है। नीचे ऐसे ही पाँच Career Options दिए गए हैं जिसमें BAMS से Graduated व्यक्ति अपना Career बना सकता है। जो कि हैं

1) Clinical practice (अस्पताल अभ्यास)

2) Academic (अकादमिक)

3) Research (अनुसंधान)

4) Management and administration (प्रबंधन और प्रशासन)

5) Drug Production (ड्रग निर्माण)

बीएएमएस के बाद कौन सी डिग्री ले?

BAMS ki Degree एक बहुत बड़ी degree मानी जाती है। परंतु इस को पाने के बाद doctor आगे भी degrees को कर सकता है जैसे:

1) MD Degree or MS (Ayurved)

2) MBA Degree Course (Hospital Healthcare Management)

3) MPH

4) M.Sc Course in Health Sciences

5) M.Sc Nutrition Degree

आशा करते है आपको यह जानकारी पसंद आई होगी।

BAMS FQAs

Q.1 BAMS का फुल फॉर्म क्या होता है?

Ans. Bams Ka Full Form “Bachelor Of Ayurvedic Medicine & Surgery” होता है।

Q.1 मुझे BAMS admission मिल सकता है?

Ans. प्रवेश NEET में प्राप्त अंकों के आधार पर किया जाता है, इसके बाद पंजीकृत कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए काउंसलिंग की जाती है। इसके अलावा, आपको अपनी कक्षा 12 में न्यूनतम 45-50% अंकों के साथ उत्तीर्ण होना चाहिए।

Q.3 BAMS में क्या स्कोप है?

Ans. BAMS कोर्स पूरा करने के बाद, आप अस्पतालों में एक कॉल डॉक्टर के रूप में काम पर रख सकते हैं। इस Field में बहुत Scope है जैसे- Therapist, Product Manager, Medical Representative, Work in Nursing Home, Dispensaries, Research Institutes, On Duty Doctor, Work In Healthcare Community, Area Sales Manager, Sales Representative, Category Manager, Pharmacist, Lecturer.

Q.4 BAMS के लिए कितने अंक आवश्यक हैं?

Ans एक आयुर्वेद कॉलेज में एक स्थान को सुरक्षित करने के लिए 280 से 300 के बीच NEET स्कोर पर्याप्त हैं।

ये भी पढ़े – 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here