मोबाइल फोन के रेडिऐशन से बचने के उपाय। 

मोबाइल फोन के रेडिऐशन से बचने के उपाय। – आपने शायद कभी इस बात की ओर ध्यान न दिया हो कि जिस क्षेत्र या परिसर, गली, मुहल्ले में mobile टावर होता हैं वहाँ पक्षी, मधुमक्खी की संख्या कम होती है। आखिर ऐसा क्यों ? सोचिए।  शहरी क्षेत्र तो दूर वर्तमान में आप किसी गाँव कस्बे में भी जायेंगे तो वहाँ भी इसी प्रकार की कमी देखने को मिलती है।  वैसे देखा जाये तो दैनिक जीवन में mobile रेडियेशन से पूरी तरह से बच पाना संभव नहीं है क्योंकि वर्तमान में हम इस डिवाइस पर इतने निर्भर हो चुके हैं कि इसके इस्तेमाल के बिना कोई भी कार्य कर पाना संभव नहीं लगता है। लेकिन फिर भी कुछ उपाय करके हम इस हानिकारक रेडियेशन से बच सकते हैं।

मोबाइल फोन के रेडिऐशन से बचने के उपाय। 
मोबाइल फोन के रेडिऐशन से बचने के उपाय।

तो ऐसा क्या है इस मोबाइल रेडियेशन में और किस प्रकार ये हानिकारक होता है आज इसी विषय पर जानकारी लेते हैं।

आखिर ये मोबाइल रेडियेशन क्या है इसके बारे में पिछले आर्टिकल में बता चुके हैं। 

मोबाइल रेडियेशन का खतरा- 

इस रेडियेशन से आखिर ऐसा क्या खतरा है ? ये भी जानना जरूरी है- मोबाइल टावर से निकलने वाला रेडिएशन से लगभग 300 मीटर कि रेंज में आने वाले लोगो को नुकसान पहुंचता है मोबाइल के इस्तेमाल से आँखों में सूखापन, सिर में दर्द, पाचन खराब होना, काम में मन नहीं लगना, चक्कर आना, शारीरिक एवं मानसिक थकान का अनुभव होना, कानों में आवाज आते रहना, याददाश्त (मेमोरी) कमजोर होना, धड़कन असामान्य होना आदि इन समस्याएँ को मुख्य रूप से देखा गया है। लंबे समय तक इस्तेमाल करने पर ब्रेन  ट्यूमर होना, प्रजनन क्षमता में कमी भी मोबाइल के अधिक इस्तेमाल का कारण हो सकता है गर्भवती महिलाओं के गर्भस्थ शिशु को काफी नुकसान इन रेडियेशन से पहुंचता है और इसके कारण गर्भवती महिला के गर्भस्थ शिशु की जान भी जा सकती है।

मोबाइल इस्तेमाल करते समय यह खतरनाक रेडियेशन हमारे शरीर के सबसे पास स्थित ऊतकों (सिर) द्वारा अवशोषित किया जाता है  इसके कारण मस्तिष्क की कोशिकाओं को इस रेडियेशन से काफी नुकसान पहुँचता है,  चूंकि हम जानते हैं कि यदि कोशिकाओं में परिवर्तन आना ही कैंसर होना है इस प्रकार ब्रेन कैंसर और Brain Tumor बनने की संभावना बढ़ जाती है। ब्रेन के अलावा अन्य शारीरिक अंगों में कैंसर जैसी घातक बीमारी भी इसके कारण हो सकती है।

रेडियेशन से बचने के उपाय-

कुछ वायरलेस डिवाइस भी हानिकारक रेडिएशन का उत्सर्जन करते है जैसे कि AC, Wireless Computer  और भी अन्य Wireless  उपकरण लेकिन मोबाइल  इस्तेमाल के समय शरीर के काफी नजदीक होता है तो रेडिएशन का खतरा बढ़ जाता है और वास्तव में सच कहा जाए तो mobile रेडियेशन से पूरी तरह से बचना संभव नहीं है क्योंकि लगभग ये हर जगह मौजूद हैं और मोबाइल फोन्स भी हमारे दैनिक जीवन को अभिन्न अंग बन चुके हैं फिर भी कुछ साधारण सी सावधानियां रखकर हम इस खतरे से दूर रहकर अपने लिए खतरा कम कर सकते हैं-

(1) मोबाइल से खतरनाक रेडियो एवं माइक्रोवेव रेडिएशन निकलने के कारण जहाँ तक संभव हो मोबाइल को अपने सिर से दूर रखें। सिर से मोबाइल 20 सेमी. की दूरी होने पर रेडियेशन लगभग 98% कम होता है।

(2) मोबाइल को कभी भी पैंट या शर्ट की जेब मे न रखें जहाँ तक संभव हो इसे बैग में रखें। यदि आपके घर में लैण्डलाइन फोन है तो लंबी बातचीत के लिए लिए मोबाइल के बजाय लैण्डलाइन फोन को प्राथमिकता प्रदान करें।

(3) कभी भी मोबाइल को सिर के पास रखकर और न ही तकिए के नीचे रखकर सोएँ। सोते समय Mobile को स्विच-ऑफ़ करके रखें। यदि आपको लगता है कुछ मिनट या घण्टों तक आपको निरंतर रूप से डेटा कनेक्टीविटी या मोबाइल इस्तेमाल करने की आवश्यकता नहीं है तो आप इसे स्विच-ऑफ़ कर सकते हैं या फिर इसे Airplane Mode पर रख सकते हैं क्योंकि यह मोड सेलुलर, वाई-फाई और ब्लूटूथ को बंद कर देता है जिससे रेडियेशन का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है। इस मोड को रखने पर आपको थोड़ी परेशानी हो सकती है लेकिन ये असंभव तो बिल्कुल नहीं है और इसके लिए आपको यथासंभव कोशिश भी करना चाहिए।

(4) मोबाइल का इस्तेमाल करते समय घूमे-फिरना नहीं चाहिए।  क्योंकि Mobile से मोबाइल टावर कनेक्टिविटी में परेशानी उत्पन्न होने पर रेडियेशन का उत्सर्जन बढ़ जाता है। साथ ही सिग्नल कमजोर होने पर मोबाइल का इस्तेमाल बिलकुल न करें। ज्यादा समय तक मोबाइल फोन पर बातचीत न करें।

(5) बच्चों को मोबाइल को इस्तेमाल कम से कम करने दें, फिर भी यदि कोई वीडियो आदि देखना चाह रहे हैं तो वीडियो को पहले से ही डाउनलोड करके रखें। 5 वर्ष से कम उम्र बच्चों को मोबाइल इस्तेमाल न करने दें।

(6) बात करते समय हैंड्स फ्री मोड (Hands free mode) का इस्तेमाल करें या फिर इस मोड का इस्तेमाल नहीं करना चाहते तो Mobile से कानों की दूरी लगभग 1 से 2 सेमी. दूर रखें। बात करने के लिए आप इयरफोन का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। हाँ इयरफोन का इस्तेमाल करते समय विशेष सावधानी बरतें। सार्वजनिक जगहों पर इसका इस्तेमाल करने पर आपका ध्यान भटकने के कारण दुर्घटना होने की संभावना होती है।

(7) Mobile का चार्ज करते समय बात बिल्कुल न करें क्योंकि चार्जिंग मोड पर मोबाइल से निकलने वाला रेडियेशन लगभग 10 गुना तक बढ़ जाता है।

(8) मोबाइल का बैटरी लेवल कम होने या लो-बैटरी होने पर इस्तेमाल बिल्कुल न करें इस समय भी रेडियेशन का खतरा कई गुना बढ़ जाता है।

तो दोस्तों कुछ सावधानियाँ रखकर आप इन रेडियेशन से खतरे को काफी हद तक कम कर सकते हैं। 
धन्यवाद !

ये भी पढ़े – 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here