हवाई जहाज का माइलेज कितना होता है ?

यदि आप कार या बाइक चलाते हैं तो आपकी बाइक का माइलेज (Mileage) कितना होगा ? इस सवाल का जबाब आपको जरूर पता होगा लेकिन आपने कभी सोचा है आसमान में उड़ते हुए भारी भरकम हवाई जहाज का माइलेज (Mileage of aeroplanes) कितना होता है ?

हवाई जहाज देखकर हमारे-आपके मन में भी ये सवाल तो जरुर आता होगा कि लगभग 1 लाख 85 हजार वजनी खाली हवाई जहाज का माइलेज कितना होगा ? इतना बड़े हवाई जहाज चलने में कितना ईंधन खर्च करता होगा ? हवाई जहाज 1 लिटर में कितना माइलेज देता है यानी 1 लीटर फ्यूल में जहाज में कितना चलता है ?

आइये जानते हैं कि हवाई जहाज का माइलेज (Mileage of aeroplanes) कितना होता है ?

हवाई जहाज का माइलेज
Image credit pixabay.com

हवाई जहाज में ईधन के रूप में डीजल या पेट्रोल का इस्तेमाल नहीं किया जाता है हवाई जहाज में इस्तेमाल किया जाने वाला ईंधन को Aviation turbine fuel (ATF) एविएशन टरबाइन फ्यूल या एटीएफ कहा जाता है और वर्तमान समय में इसकी कीमत लगभग 57,805.28 रुपये प्रति किलोलीटर है।

आइये बात करते हैं हवाई जहाज के माइलेज (Mileage of aeroplanes) की, इसके लिए हम उदाहरण लेते है बोइंग 747 (Boeing 747) का जो कि एक अमेरिकन कंपनी का 500 सीटर हवाई जहाज है जिसकी स्पीड लगभग 900 किलोमीटर/घंटे होती है।

यह विमान 1 लीटर Aviation turbine fuel (ATF) एविएशन टरबाइन फ्यूल में 0.8 किलोमीटर (लगभग 800 मीटर या कहें 1 किलोमीटर से भी कम) की दूरी तय करता है यानि प्रति किलोमीटर की यात्रा तय करने में 12 लीटर ईधन और कुल 12 घंटे के सफर में लगभग 172,800 लीटर Fuel खर्च करता है
मतलब हवाई जहाज में 12 लीटर ईंधन में 500 लोग 1 किलोमीटर का सफर कर सकते हैं।
(यानि की यह प्रति सेकंड 4 लीटर एटीएफ और 1 मिनट में लगभग 240 लीटर एटीएफ खर्च कर देता है)

जिस प्रकार हमारी बाइक का माइलेज इस पर बैठने वाली सवारी की संख्या, वजन, बाइक की स्पीड तथा और अन्य कारकों पर निर्भर करता है उसी प्रकार मुख्य रूप से हवाई जहाज का माइलेज भी अलग-अलग हो सकता है जो कि हवाई जहाज के आकार, साइज (Plane Size), यात्रियों की संख्या (No. of Passenger), इंजन की संख्या, एयर मोड या यात्रा करने के रूट पर निर्भर करता है कम वजन होने पर इसके माइलेज में भी बढ़ोतरी होती है साथ ही जहाज की स्पीड को कंट्रोल करके इसके माइलेज को बढ़ाया जा सकता है।

साथ ही सफर के दौरान हवाई जहाज के रूट का भी विशेष ध्यान रखा जाता है सीधे रास्ते का अधिक इस्तेमाल करके ईधन की खपत (Fuel Consumption) में काफी कमी की जा सकती है। चूंकि हवाई जहाज का साइज एवं वजन काफी अधिक होता है तो माइलेज कम होना सामान्य सी बात है।

इसके अलावा पैसेंजर विमान जमीन से अधिकतम 45000 फीट की ऊँचाई पर उड़ाया जा सकता है क्योंकि जमीन से अधिक ऊँचाई जाने पर वायु का घनत्व (Density) कम होता है जिससे उसे कम Friction का सामना करना पड़ता है। जिससे हवाई जहाज के माइलेज भी में वृद्धि होती है ।

उम्मीद है आपको ये जानकारी अवश्य पसंद आयी होगी और भी रोचक जानकारी के लिये हमसे awesomegyan.in पर जुड़ें रहें।…………….धन्यवाद !

ये भी पढ़े – 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here