सर्दियों में एसी बंद होने पर भी रेलवे उसका चार्ज क्यों लेता है?

सर्दियों में एसी बंद होने पर भी रेलवे उसका चार्ज क्यों लेता है? – आप मे से कई लोगो के मन मे कभी न कभी ये सवाल तो जरूर आया होगा कि सर्दियों में ट्रेन के एसी कोच का एयर कंडीशनर बंद रहता है तो रेलवे यात्रियों से AC का चार्ज क्यों लेता है? गर्मियों में ट्रेन का AC चलता है लेकिन सर्दियों में बंद रहता फिर ऐसा क्यों? तो चलिए आपको बताते है की सर्दियों में एसी बंद होने के बाद भी रेलवे हमसे उसका चार्ज क्यों लेता है?

सर्दियों में एसी बंद होने पर भी रेलवे उसका चार्ज क्यों लेता है?
सर्दियों में एसी बंद होने पर भी रेलवे उसका चार्ज क्यों लेता है?

सबसे पहले आपको बता दे कि ट्रेन के जो AC कोच होते है वातानुकूलित यानी कि Air Conditioned होते है, वो Air Cooled  यानी वातानुशीतलित नही होते है। जो वातानुकूलित (Air Conditioned) कोच होते है उन्हें गर्मियों के मौसम में ठंडा रखा जाता है और सर्दियों के मौसम में गर्म रखे जाते है।

इनका तापमान गर्मियों के मौसम में, जब बाहर का तापमान  50 ℃ तक होता है तो कोच के अंदर का तापमान 20–25 ℃ के बीच रखा जाता है। इसी तरह सर्दियों के मौसम में जब बाहर का तापमान 0℃ तक होता है तब कोच के अंदर का तापमान 17–21 ℃ तक रहता है।

इसके लिए सर्दियों में AC में लगे हीटर को चलाया जाता है ओर जिसे ब्लोअर चला कर पूरे डब्बे में गर्म हवा को पहुचाया (circulate) किया जाता है। बता दे कि AC कोच का हीटर खास तरह का होता है ओर  इसीलिए हीटर में सारी रात रहने के बाद भी सूखी त्वचा का एहसास नही होता है, जो अकसर हमारे घर मे लगे रूम हीटर से होता होता है।

यानी कि सर्दियों के मौसम में कोच को गर्म और गर्मियों में इन्हें ठंडा रखा जाता है। इनमे लगा AC भी काम करता रहता है। तो अब अच्छी तरह से समझ गए होंगे कि रेलवे क्यों सर्दियों में भी एसी (AC) का पैसा यात्रियों से क्यों बसूलते है। आशा करते है आपके लिए ये जानकारी उपयोगी साबित होगी, धन्यवाद….

ये भी पढ़े – 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here